इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना (IGMSY) | Indira Gandhi Matritya Yojana in Hindi

Sponsored

1. परिचय: गर्भावस्था एवं प्रसव के पश्चात महिला एवम शिशु के स्वास्थ्य की बेहतर देखभाल करने के लिए ‘इंदिरा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना’ वर्ष 2010 में मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार द्वारा इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना शुरू की गई थी। यह योजना महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा चलाई गई है। इस योजना के तहत गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को, जो 19 वर्ष या उससे अधिक आयु की हैं। उन्हें नकद और आर्थिक रूप से लाभ प्रदान करता है। यह योजना दम्पति के पहले 2 बच्चों के जन्म तक ही सीमित है। इसका उद्देश्य उनके स्वास्थ्य और पोषण की स्थिति में सुधार लाना है ताकि दूध पिलाने वाली और गर्भवती स्त्रियों के माहौल में सुधार किया जा सके। इंदिरा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना के अनुसार लाभार्थियों को दो किस्तों में 6000 रुपए बैंक अथवा डाकघर खातों के जरिए दिए जाते हैं।

Indira Gandhi Matritva Sahyog Yojana :Aim

2.  इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना/जननी सुरक्षा योजना के उद्देश्य: इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना के उदेश्य निम्नलिखित हैं:-

  • माताओं के लिए मोदी सरकार द्वारा घोषित 6000 रुपए के नकद प्रोत्साहन ताकि वे बच्चों को बेहतर पोषण और स्वास्थ्य मानकों पर खरे उतरने वाले भोजन उपलब्ध करा सके।
  • पहले 6 महीने में विशेष रूप से स्तनपान के समय सबसे अच्छा भोजन और पोषण देने ले लिए महिलाओं को प्रोत्साहित करें।
  • गर्भावस्था, प्रसव और स्तनपान के समय में बेहतर देखभाल और सेवा के उपयोग को बढ़ावा देना है।

3.  इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना/जननी सुरक्षा योजना के भुगतान के तरीके: इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी महिला को रुपये 6000/- तक आर्थिक सहायता निम्नलिखित प्रकार से डाकघर/बैंक खाते द्वारा प्रदान की जाती है:

  • जननी सुरक्षा में गर्भाश्य महिला को पहले 1500 रुपए दिए जाते हैं।
  • दूसरी राशि में 1500 रुपए प्रसव के 90 दिन बाद दी जाती है, परन्तु उसके लिए अपने बच्चे का पंजीकरण कराया होना अनिवार्य है।
  • बच्चे के जन्म के 6 महीने बाद बाकि राशि प्रदान की जाती है।

4. पात्रता एवम आवेदन:  इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना के लिए पात्रता एवम आवेदन इस प्रकार से है:-

Sponsored
  • कोई भी गर्भवती महिला जो 19 वर्ष या उससे अधिक आयु की हो, वह इस योजना आवेदन कर सकती है।
  • वह महिला जो मैटरनिटी अवकाश पर हैं, वह इस योजना का लाभ नहीं ले सकती है, क्योंकि उन्हें पहले से ही छुट्टी पर भी वेतन प्राप्त होता है।
  • जिस महिला का गर्भावस्था के प्रथम 4 महीने में नजदीकी आंगनबाड़ी में रजिस्ट्रेशन किया गया हो।
  • किसी भी चिकित्सा केंद्र पर 1 से 3 बार तक परामर्श लिया हो।

5. Important Question/Answer: इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना/जननी सुरक्षा योजना संबंधी पूछें जाने वाले महत्वपूर्ण प्रश्न (Important Question/Answer on Indra Gandhi Matritva Sahyog Yojana/Janani Suraksha Yojana in Hindi :-

प्रश्न: इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना कब और किसने लागू किया था?

उत्तर: इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना वर्ष 2010 में मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार द्वारा शुरू की गई थी।

प्रश्न: इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना/जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत लाभार्थी महिलाओं को कितनी आर्थिक सहायता मिलती है?

उत्तर: इस योजना के अंतर्गत गर्भवती महिलों को रुपये 6000/- तक आर्थिक सहायता दी जाती है।

प्रश्न: इंदिरा गाँधी मातृत्व सहयोग योजना किस मंत्रालय द्वारा चलाई जा रही है?

उत्तर: भारत सरकार, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा चलाई जा रही है।

प्रश्न: इंदिरा गाँधी मातृत्व सहयोग योजना के अंतर्गत लाभार्थी महिला की आयु कितनी होनी चाहिए?

उत्तर: इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी महिला की उम्र कम से कम 19 वर्ष होनी चाहिए।

प्रश्न: इंदिरा गाँधी मातृत्व सहयोग योजना के अंतर्गत दम्पति को कितने बच्चो तक लाभ मिल सकता है?

उत्तर: इस योजना का लाभ दो बच्चो तक सीमित है।

प्रश्नइंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना/जननी सुरक्षा योजना के उद्देश्य क्या हैं?

उत्तरइंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना/जननी सुरक्षा योजना के मुख्य उद्देश्य गर्भावस्था एवं प्रसव के पश्चात महिला एवम शिशु की बेहतर देखभाल करना है।

प्रश्न: इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना/जननी सुरक्षा योजना  में लाभार्थी को भुगतान कैसे किया जाता है?

उत्तर: डाकघर अथवा बैंक के कहते द्वारा भुगतान किया जाता है।

प्रश्न: इंदि‍रा गांधी मातृत्‍व सहयोग योजना/जननी सुरक्षा योजना के लिए आवेदन कैसे करें ?

उत्तर: इस योजना के लिए नजदीकी आगनबाड़ी केंद्र में प्रथम 4 महीने में रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता है। सहयोग के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/आशा/ प्रधान अथवा नजदीकी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से संपर्क कर सकते हैं।

Sponsored

Add Comment